दुनिया का सबसे अद्वितीय मंदिर जहां दिन में कई बार बदली जाती है माताजी की मूर्ति, जानिए क्या है इस मूर्ति में खास…

दुनिया का सबसे अद्वितीय मंदिर जहां दिन में कई बार बदली जाती है माताजी की मूर्ति, जानिए क्या है इस मूर्ति में खास…

इस धरती पर कई ऐसे रहस्य हैं जो आज भी अज्ञात हैं। उत्तराखंड में एक ही मां मंदिर है, जिसका रहस्य आज भी सभी को हैरान करता है। हमारे देश में हजारों मंदिर हैं। सभी मंदिर प्राचीन काल के हैं। उनमें से कई मंदिर हैं। आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे रहस्यमयी माना जाता है।

इस मंदिर का नाम धारा देवी मंदिर है। इसे रहस्यमय माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि मंदिर की मूर्ति दिन में कई बार रंग बदलती है। दरअसल, उत्तराखंड में श्रीनगर से करीब 14 किमी दूर स्थित इस मंदिर में कोई चमत्कार है। हर दिन लोग इस मंदिर के चमत्कार को देखकर चकित रह जाते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि मंदिर में मौजूद मां की मूर्ति दिन में तीन बार अपना रूप और रंग बदलती है। मंदिर की यह मूर्ति सुबह दुल्हन की तरह दिखती है। इसलिए दोपहर में वह एक युवती बन जाती है और शाम को मूर्ति एक में बदल जाती है बूढ़ी औरत। नजारा वाकई अद्भुत है।

कोंकणा पर पहली नजर में दिल हार बैठे थे रणवीर, कुछ इस तरह शुरू हुई थी दोनों की लव स्टोरी
पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार यह मंदिर भीषण बाढ़ में बह गया था। इसमें मौजूद मां की मूर्ति भी बह गई थी। इसके बाद धरो गांव के पास एक पत्थर से टकराकर इसे बंद कर दिया गया था। माना जाता है कि इस दौरान भगवान ने उपहार दिया। मूर्ति से एक आवाज आई, जिसने ग्रामीणों को उस स्थान पर मूर्ति स्थापित करने का निर्देश दिया।

सोहेल खान की एक्स वाइफ ने सबके सामने कही यह बात- ‘मुझे पसंद है लड़कियां’
इसके बाद गांव के लोगों ने मिल कर वहां मां का मंदिर बनवाया। पुजारियों के अनुसार मंदिर में द्वापर काल से ही माता धारा की मूर्ति स्थापित है माना जाता है कि 2013 में मां धारा मंदिर को तोड़ा गया था . और उनकी मूर्ति को उसके मूल स्वरूप में बहाल कर दिया गया। इसे साइट से हटा दिया गया था, जिसके कारण उस वर्ष उत्तराखंड में सबसे भीषण बाढ़ आई थी, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। 16 जून 2013 की शाम को धारा देवी की मूर्ति को हटा दिया गया और कुछ घंटों बाद राज्य को आपदा का सामना करना पड़ा।बाद में उसी स्थान पर मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया।

Bolly News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *