Runway 34 movie review: तकनीकी पक्ष और रोमांस में ऊंची उड़ान भरती है अजय देवगन की फिल्म

Runway 34 movie review: तकनीकी पक्ष और रोमांस में ऊंची उड़ान भरती है अजय देवगन की फिल्म

निर्देशक- अजय देवगन
कलाकार- अजय देवगन, रकुल प्रीत सिंह, अमिताभ बच्चन, अंगिरा धर, बोमन ईरानी

“गलती करने के बाद आप तीन ही चीज कर सकते हैं, गलती को मानना, गलती से सीखना और दोबारा कभी उस गलती को ना करना..” नारायण वेदांत (अमिताभ बच्चन) पूछताछ के दौरान कैप्टन विक्रांत खन्ना (अजय देवगन) को सलाह देते हुए कहते हैं। इसी गलती को मानने और छिपाने के बीच की कहानी है ‘रनवे 34’।

इस फिल्म की कहानी 2015 की सच्ची घटना पर आधारित है, जब दोहा- कोच्ची फ्लाइट को खराब विजिबिलिटी की वजह से एक भंयकर दुर्घटना से बचाया गया था, और दक्षिण भारत के दूसरे एयरपोर्ट पर डाइवर्ट कर दिया गया था। वीएफएक्स और प्रोडक्शन डिजाइन फिल्म के मजबूत पक्षों में हैं। तेज हवा के बीच गोते लगाता हवाईजहाज आपकी भी दिल की धड़कन बढ़ा देता है। लेकिन फिल्म जहां कमजोर पड़ती है, वो है लेखन। एक इंवेस्टिगेटिव ड्रामा होने के नाते कहानी में थोड़ा और ड्रामा और इमोशन पक्ष जोड़ा जाना चाहिए था।

कहानी
“मैं चीज़ें कभी नहीं भूलता, मेरे पास फोटोग्राफिक मेमोरी है..” कैप्टन विक्रांत खन्ना (अजय देवगन) अपनी बेटी से उसके जन्मदिन पर घर आने का वादा करते हुए फोन पर कहता है। वह रात भर दोस्तों के बीच पार्टी करता है और अगले दिन उसे दुबई से कोचीन (स्काईलाइन 777) के लिए एक उड़ान सौंपी जाती है। उसके साथ उनकी को-पायलट होती हैं तान्या (रकुल प्रीत)। एक नियमित यात्रा के तौर पर शुरु हुआ यह सफर तब एक भयानक ख्वाब की तरह बन जाता है, जब उसे बेहद खराब मौसम का सामना करना पड़ता है।

35 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर रहे इस फ्लाइट के यात्रियों की जान खतरे में आ जाती है। ऐसे समय में तान्या के सुझावों के विपरीत जाकर विक्रांत ना केवल उड़ान के वैकल्पिक गंतव्य को बदलता है, बल्कि लैंड करने से ठीक पहले ‘मे डे’ (MayDay) संदेश भेजता है। हालांकि खराब मौसम, खराब विजिबिलिटी और ईंधन की कमी होने के बावजूद विक्रांत फ्लाइट को सुरक्षित लैंड कराता है, लेकिन इसके बाद भी उसे कटघरे में खड़ा किया जाता है। इस मामले में जांच कैसे आगे बढ़ती है, यह कहानी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। बता दें, ‘मेडे’ शब्द का इस्तेमाल एविएशन या मरीन ट्रैफिक कंट्रोल के लिए बनी टर्मिनोलॉजी के तहत किया जाता है। इस शब्द का इस्तेमाल पायटल उस समय करता है जब उसे अहसास हो कि उसकी और यात्रियों की जान संकट में है।

अभिनय
पायलट विक्रांत खन्ना के किरदार में अजय देवगन अच्छे लगे हैं। तेजतर्रार होने के बावजूद उनके किरदार में एक ठहराव है, जो अभिनेता ने बखूबी दिखाया है। हालांकि इसे उनकी सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस में नहीं गिना जा सकता है। रकुल प्रीत सिंह को फिल्म में इमोशंस दिखाने का काफी मौका दिया गया है और अभिनेत्री ने यहां कोई कमी नहीं छोड़ी है। अमिताभ बच्चन सीमित भूमिका में हैं, लेकिन अपने अभिनय से कहानी को वजन देते हैं। काश उनके जैसे प्रतिभाशाली अभिनेता के किरदार को थोड़ा और मजबूती से लिखा गया होता। कोर्टरूम में अजय देवगन और अमिताभ बच्चन के बीच फिल्माए दृश्य खास प्रभाव नहीं छोड़ते हैं। बोमन ईरानी, आकांक्षा सिंह और अंगिरा धर को बमुश्किल ही अपने अभिनय का प्रदर्शन करने का मौका मिलता है।

निर्देशन
साल 2016 में आई फिल्म शिवाय के बाद अजय देवगन ने एक बार फिर निर्देशन का जिम्मा संभाला है। कहना गलत नहीं होगा कि उनके द्वारा निर्देशित फिल्मों में ये सबसे बेहतर है। ‘रनवे 34’ अपनी पहली दृश्य के साथ ही ध्यान आकर्षित करती है। फिल्म का फर्स्ट हॉफ बेहद दमदार है। बीच हवा में प्लेन के अंदर घट रही सभी बातें आपके अंदर भी रोमांच पैदा करती है। कुछ क्षण ऐसे फिल्माए गए हैं कि जब आपकी भी धड़कन बढ़ जाती है। फिल्म सच्ची घटना पर आधारित है, लिहाजा आप खुद को कहानी से और ज्यादा जोड़ पाते हैं। लेकिन कोर्ट रूम ड्रामा ज़ोन में जाते ही फिल्म कमजोर पड़ जाती है। अजय देवगन और अमिताभ बच्चन के बीच कुछ डायलॉगबाजी को छोड़कर, सेकेंड हाफ में ज्यादा कुछ नहीं है। ट्रायल के सीन्स में और अधिक ड्रामा और लेयर जोड़ा जाना चाहिए था। कुछ महत्वपूर्ण सवालों का जवाब देने में भी फिल्म चूक जाती है।

तकनीकी पक्ष
अजय देवगन ने अपने इंटरव्यू में जानकारी देते हुए कहा था कि इस फिल्म में तकनीकी स्तर पर उन्होंने काफी मेहनत की है और कई ऐसी तकनीक का भी इस्तेमाल किया है, जो हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के लिए नया है। बहरहाल, फिल्म देखकर अजय देवगन की बात सच लगती है। तकनीकी स्तर पर फिल्म काफी मजबूत है। असीम बजाज की सिनेमेटोग्राफी दमदार है। खास फ्लाइट के अंदर और उड़ान भड़ने के बाद के दृश्य काफी रोमांचक लगे हैं और आपको लगातार बांधे रखते हैं। धर्मेंद्र शर्मा की एडिटिंग अच्छी है।

देखें या ना देखें
अजय देवगन की यह इंवेस्टिगेटिव थ्रिलर फर्स्ट हाफ में बेहद मजबूत है। फिल्म का हर दृश्य रोमांच पैदा करता है। लेकिन सेकेंड हॉफ में कोर्ट रूम ड्रामा शुरु होते ही फिल्म बेहद धीमी हो जाती है। लेखन कुछ हिस्सों में कमजोर है। हालांकि, बतौर निर्देशक अजय देवगन ने अपनी पिछली फिल्मों की तरह रनवे 34 में भी तकनीकी पक्ष में कोई कमी नहीं छोड़ी है। फिल्म एक बार थियेटर में जरूर देखी जा सकती है। फिल्मीबीट की ओर से ‘रनवे 34’ को 3 स्टार।

Bolly News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *