Anek movie review: इंडिया को प्रोटेक्ट करने से सारे इंडियन प्रोटेक्ट हो जाते हैं क्या?

Anek movie review: इंडिया को प्रोटेक्ट करने से सारे इंडियन प्रोटेक्ट हो जाते हैं क्या?

‘इंडिया को प्रोटेक्ट करने से सारे इंडियन प्रोटेक्ट हो जाते हैं क्या?’ आयुष्मान खुराना के इस अकेले डायलॉग से आप समझ सकते हैं कि ये मूवी क्या कहना चाहती है. इस मूवी को जब आप देखकर बाहर निकलते हैं, तो 2 तरह के ख्याल आते हैं. पहला ये कि वाकई में पूर्वोत्तर को मुख्य धारा में लेकर किसी ने इस तरह की मूवी नहीं बनाई. जैसे ‘कश्मीर फाइल्स’ में कश्मीरी पंडितों की खुलकर बात की गई, वैसे ही इस मूवी में पूर्वोत्तर वासियों की और ये पहली बार है. ये अलग बात है कि विलेन कौन है, ये समझना ‘अनेक’ में मुश्किल लगेगा. दूसरा ख्याल ये आता है कि जैसा माहौल पूर्वोत्तर का इस मूवी में दिखाया गया है, वो इंदिरा गांधी के जमाने का है, तो आज उसे म्यांमार की सर्जिकल स्ट्राइक के साथ दिखाकर क्या राष्ट्रवादियों पर निशाना साधा गया है? इस लेख में सबसे पहले लिखा गया आयुष्मान खुराना का डायलॉग इस तरफ इशारा भी करता है।

  • कास्ट: आयुष्मान खुराना, एंड्रिया केवीचुसा, लोइतोंगबम डोरेन्द्र सिंह, कुमुद मिश्रा, मनोज पाहवा आदि
  • निर्देशक: अनुभव सिन्हा
  • स्टार रेटिंग: 3

पूर्वोत्तर को बनाया कहानी का आधार
कहानी कहां की है, ये पता नहीं चलती या ज्यादातर समीक्षक पकड़ नहीं पाए, शहर या राज्य तो पता नहीं चले लेकिन इतना पता चलता है कि पूर्वोत्तर राज्यों में से किसी एक की है. या किसी एक के बजाय डायरेक्टर ने पूरे पूर्वोत्तर को इसमें समेट दिया है. एक अंडर कवर ऑफिसर अमन (आयुष्मान खुराना) है, जो वहां जोशुआ के रूप में काम करता है, एक ऐसा उग्रवादी जॉनसन डमी के रूप में वह भी खड़ा करता है, जो अन्य अलगाववादी उग्रवादियों की तरह उस राज्य को भारत से अलग राज्य बनाना चाहता है. भारत सरकार के साथ पूर्वोत्तर में अलगाववादियों के सबसे बड़े नेता सांगा (डोरेन्द्र) से शांति समझौते की बाधाएं हटाने में उसके हिसाब से ये तरीका काम आएगा।

दूसरी तरफ एक एडो नाम की लड़की है, जो बॉक्सिंग में भारतीय टीम के लिए खेलना चाहती है, लेकिन उसके साथ भेदभाव होता है. जबकि उसका अलगाववादी पिता वांगनाओ जॉनसन के नाम से ही एक नया उग्रवादी संगठन खड़ा कर देता है. इधर अमन का बॉस अबरार सांगा को सत्ता पक्ष से मिलकर चुनाव लड़ने, मुख्यमंत्री बनने जैसे लालच देकर शांति समझौता करना चाहता है. सरकार के मंत्री कुमुद मिश्रा इस केस को सरकार की तरफ से अबरार के साथ संभालते हैं. लेकिन उसमें रोड़ा बन जाता है दूसरा जॉनसन यानी उस बॉक्सर लड़की एडो का पिता।

खुफिया अधिकारी बने हैं आयुष्मान खुराना
इधर अमन का बागी रुख देखने लायक है, पूर्वोत्तर के ज्यादातर किरदार वायरल वीडियोज वाले कश्मीरियों की तरह बात करते दिखाई देते हैं, खुद को भारतीय मानते ही नहीं हैं. अमन भी उनकी ही तरफदारी लेता दिखता है. अबरार को भी लगता है कि अमन पर भरोसा ठीक नहीं है, तो वह एक और ऑफिसर भेजकर जॉनसन बने उस लड़की के पिता पर हमला करवा देता है. बाद में अमन अपना रुख साफ करता है कि या तो जॉनसन और सांगा दोनों से शांति समझौता करो या फिर दोनों को जेल भेजो क्योंकि सांगा भी ड्रग्स, हथियारों का धंधा करता है।

ऐसे में जिन लोगों ने आईबी के ज्वॉइंट सेक्रेट्री रहे एमके धर की किताब ‘ओपन सीक्रेट्स: इंडियाज सीक्रेट्स अनवेल्ड’ पढ़ी होगी, वो लोग इस मूवी को देखकर नहीं चौंकेंगे. लेकिन यकीन मानिए बाकी आम लोगों में से बहुतों के सर के ऊपर से जा सकती है ये मूवी. दर्शक ये समझने की कोशिश करेगा कि आखिर कहना क्या चाहते हो. पूर्वोत्तर वालों की परेशानी क्या है, इसे समझाने के लिए वो जॉनसन का एक डायलॉग नक्शे के साथ इस्तेमाल करते हैं और फिर आपको अभी तक जेल में बंद शरजील इमाम की याद आ सकती है।

लोगों से कथित भेदभाव को दिखाया
इस सीन में वो बताता है कि कैसे 22 किमी की ‘चिकन नेक’ से शेष भारत पूर्वोत्तर भारत से जुड़ा हुआ है और जब इस इलाके में सेनाएं गुजरती हैं तो आस पास के इलाके वालों को कितना नुकसान होता है, फसलें सड़ जाती हैं और भी ना जाने क्या क्या. लेकिन ये आपको कनविंस नहीं करता. आज जो पूर्वोत्तर में इतने प्रोजेक्ट शुरू हुए हैं, इतना विकास हुआ है, वैसा अलगाववाद है नहीं कि हर गांव में लोग भारतीय सेना के खिलाफ बंदूकें लेकर खड़े हों. खेल मंत्री भी अभी तक उसी धरती से था, मणिपुर में खेल यूनिवर्सिटी बन ही गई है, सो इतना भेदभाव मुमकिन लगता नहीं. लेकिन नहीं है ऐसा भी नहीं कहा जा सकता।

हालांकि एमके धर की किताब में देश के लिए साम, दाम, दंड, भेद का इस्तेमाल अधिकारी करते दिखते हैं, तो अबरार उसी का उदाहरण है. लेकिन वो इस देश की खातिर कर रहा है, नेताओं से कई मुद्दों पर मतभेद आम है. वो इस मूवी में भी दिखता है, ‘जनता की आवाज सुनी जाती है, लेकिन पांच साल में बस एक बार’, जैसे डायलॉग ये तेवर दिखाते हैं।

एंग्री यंगमैन की भूमिका में दिखे आयुष्मान
लेकिन सबसे खास हैं आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) के तेवर, वो वाकई में एंग्री यंगमैन की भूमिका में नजर आए हैं, लेकिन उनका किरदार अंत में हथियार डालता ही दिखाई देता है, बस एक ही मामले में जीतता है कि एनकाउंटर के बजाय गिरफ्तार करवाओ. फिर भी ये समझना मुश्किल है कि जब जॉनसन का किस्सा बॉक्सर के पिता वांगनाओ को पता नहीं था तो फिर उसने जॉनसन का रूप क्यों लिया? और अगर उसे पता था तो ये भी पता होना चाहिए था कि वो नकली है, एजेंसियों का खड़ा किया शख्स है. जब इतना पता था तो बेटी के साथ रोज घूमने वाले जोशुआ की असलियत क्यों नहीं पता थी? जबकि जोशुआ को उसकी पता थी।

यूं प्रकाश झा और अनुभव सिन्हा में एक समानता है, मुल्क हो या आरक्षण, चक्रव्यूह हो या अनेक, ऐसा लगता है कि फिल्में देश की बड़ी समस्याओं का समाधान लेकर आएंगी, लेकिन वो बस उस तरफ आपका ध्यान खींचकर निकल जाती हैं. कई मामलों में हालांकि ये भी जरुरी है।

दिखाई देंगे पूर्वोत्तर के कई कलाकार
हालांकि इस मूवी के जरिए नॉर्थ ईस्ट के कुछ कलाकार मुख्य धारा के सिनेमा को मिलेंगे, अनुराग बासु की रोमांटिक मूवी ‘बर्फी’ देखने वालों को नॉर्थ ईस्ट का दूसरा चेहरा भी देखने को मिलेगा, भले ही देर से सही. कारवां और हाईजैक जैसी मूवीज में म्यूजिक दे चुके अनुराग सैकिया का म्यूजिक फिल्म की थीम और माहौल में फिट है. फिल्म के लिए तलाशीं कई लोकेशंस बेहतरीन ढूंढी गई हैं, इसलिए सिनेमेटोग्राफर को भी खूब मौके मिले हैं।

Bolly News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *